केंद्र सरकार के अंतरिम बजट से अपने आप को ठगा सा महसूस कर रहा है किसान – डॉ सतेंद्र सिंह

केंद्र सरकार के अंतरिम बजट से अपने आप को ठगा सा महसूस कर रहा है किसान – डॉ सतेंद्र सिंह

मुज़फ्फरनगर : किसानो की आय दुगना करने वाली सरकार ने चुनावी वर्ष के बाद भी कल लोकसभा मे जो बजट पेश किया उससे किसान अपने को ठगा हुआ महसूस कर रहे है।चालू वित्तीय वर्ष मे मात्र 20 रूपये प्रतिक्वील गन्ने के दाम मे वृद्धि करना यह दर्शाता है कि यह सरकार किसान हित की अनदेखी कर रही है ।किसान को गन्ने की लागत भी नही मिल पा रही है किसान दिन प्रतिदिन कर्ज के बोझ मे दबता जा रहा है।उर्वरक,पेस्टीसाइडस डीजल पैट्रोल दाम कम नही किये गये है।एक तरफ तो फसलो के दाम नही बढाए गये दूसरी तरफ उर्वरक,पेस्टीसाइडस,डीजल पैट्रोल के दाम कम न करना किसानो के साथ धोखा है ।युवाओ को रोजगार नही मिल रहे है।किसान की जमीनो का अधिग्रहण भी कम कीमत पर कर उन्हे भूमिहीन किया जा रहा।किसान को किसान समान निधि की नही फसलो के उचित दाम मिलने की दरकार है।कामगारो को वोट के लिए मुफ्त राशन व आवास देकर निठल्ला बनाया जा रह है यह सरकार केवल पूंजीपतियो के हित मे कार्य कर रही योजनाओ के नाम पर उन्हे मोटी रकम देकर उन्ही का कर्ज माफ किया जा रहा है जो अन्ध भक्त भाजपा की तारीफ करते नही थकते आने वाले समय मे जब देश पर कर्ज का बोझ बढ जाएगा तब वह सिर पकड कर रोएंगे देश भूखमरी के कगार पर पहुंच जाएगा खाने के लिए अन्न व रहने के लिए स्थान नही बचेगा । छोटे व्यापारी भी बोझ के तले दब रहे हैं।जब नई गाडी शौरूम से निकलती है तब ग्राहक से वन टाईम टैक्स वसूलने के बाद भी मंहगा टोल वसूलकर सरकार टोल कम्पनियो को फायदा पहुंचाने मे लगी हुई है।मार्केट मे जो चाय दस रूपये की मिलती है माल ,आधुनिक रेलवे ,हवाई अड्डो पर वही चाए इनके चहेते पूजीपति पचास रूपये की बेचकर बडा मुनाफा वसूल रहे हैं।जो आम आदमी के साथ अन्याय है।लोकसभा व विधान सभा मे बिल पेशकर माननीय अपने वेतन व भत्तो मे वृद्धि का बिल बिना शौर शराबे के पास करा लेते हैं ,कई कई पेन्शन पा रहे है। इन्हे आयकर भी नही देना पडता।वही 60 पैसठ वर्ष तक अपनी सेवा देने वाले सरकारी सेवको की पुरानी पेन्शन योजना भाजपा के सबसे पहले कार्यकाल मे बन्द कर दी गई है जो वरिष्ट नागरिको के साथ अन्याय है।आने वाले चुनाव मे जब प्रत्याशी वोट मांगने के लिए आये उनसे सवाल करे सन्तोष जनक उत्तर न मिलने पर उसी प्रत्याशी के पक्ष मे मतदान करे जो सदन मे आपकी आवाज बन सके ।चुनाव के दौरान जो प्रत्याशी आपके पैर तक छू लेते है चुनाव जितने पर वह आपसे बात करना तो दूर सीधे मुंह आपसे बात भी नही करते।अतः जागरूक नागरिक बने व चुनाव मे ऐसे प्रत्याशी को सबक सिखाएं।लोकतन्त्र की मजबूती के लिए योग्य प्रत्याशी के पक्ष मे मतदान अवश्य करे।
डाक्टर सतेन्द्र सिंह
राष्ट्रीय अध्यक्ष
पश्चिमांचल निर्माण पार्टी

.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *