किसान का बेटा करेगा दक्षिण अफ्रीका में शोध, भारत सरकार ने किया चयन

किसान का बेटा करेगा दक्षिण अफ्रीका में शोध, भारत सरकार ने किया चयन
दक्षिण अफ्रीका में शोध के लिए भारत सरकार ने किया मुजफ्फरनगर के किसान पुत्र डॉ पंकज कुमार का चयन
मुजफ्फरनगर के चरथावल ब्लाक के गाँव टांडा के होनहार सपूत डॉ पंकज कुमार को विज्ञान और अभियांत्रिकी अनुसंधान बोर्ड, भारत सरकार द्वारा दक्षिण अफ्रीका के डरबान शहर मे स्थित क्वाजुलु नातल विश्वविद्यालय मे शोध कार्य के लिए चयनित किया गया है।
मुजफ्फरनगर और शामली जिले की सीमा पर स्थित एक छोटे से गांव टांडा के किसान मेघपाल सिंह और शिमला देवी के घर जन्मे डॉ पंकज कुमार आज पूरे जनपद का नाम रोशन कर रहें है। लाला लाजपत राय इण्टर कॉलेज, थानाभवन से 12 वी पास कर डीएवी डिग्री कॉलेज से स्नातक और गणित विषय के साथ स्नातकोत्तर की डिग्री प्राप्त की। जूनियर रिसर्च फेलोशिप (JRF) पास कर दिल्ली प्रॉद्योगिक विश्वविद्यालय, दिल्ली से 2017 में ब्रह्माण्ड शास्त्र में पीएचडी की डिग्री प्राप्त की।
वर्तमान में डॉ पंकज कुमार महाराजा अग्रसेन विश्वविद्यालय, सोलन, हिमाचल प्रदेश के गणित विभाग में असिस्टेंट प्रोफेसर के पद पर कार्यरत है।
डॉ पंकज कुमार का चयन विज्ञान और अभियांत्रिकी अनुसंधान बोर्ड, भारत सरकार द्वारा दक्षिण अफ्रीका के डरबान शहर में स्थित क्वाजुलु नातल विश्वविद्यालय में शोध कार्य करने के लिए किया गया है। वहाँ वह भारतवंशी प्रोफेसर अरून कुमार बीशाम के साथ मिलकर ब्रह्माण्ड के उनसुलझे रहस्यो पर शोध कार्य करेंगे और उन्हें सुलझाने का प्रयास करेंगे।
भारत सरकार प्रत्येक वर्ष देश के कुछ चुने हुए वैज्ञानिको को विश्व के अलग अलग देशो मे भेजती है। इसी प्रक्रिया के अंतर्गत डॉ पंकज कुमार का इस वर्ष के लिए चयन हुआ है। हमारे संवाददाता से बातचीत में डॉ पंकज कुमार ने बताया कि वह 14 जनवरी 2024 को नई दिल्ली एयरपोर्ट से डरबन, दक्षिण अफ्रीका के लिए रवाना होंगे और 15 जनवरी से विश्वविद्यालय मे शोध कार्य शुरू कर देंगे।
हम उम्मीद करते है कि डॉ पंकज कुमार का शोध कार्य भारत के लिए और पूरी मानव सभ्यता के लिए लाभकारी सिद्ध होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *