दो सिपाहियों की हत्या कर सरकारी रायफल लूटने के मामले में 12 आरोपी कोर्ट से बरी

दो सिपाहियों की हत्या कर सरकारी रायफल लूटने के मामले में 12 आरोपी कोर्ट से बरी

एक आरोपी नीटू पर दोष सिद्ध, 29 सितंबर को सुनाई जाएगी सजा

जनपद मुजफ्फरनगर में ADJ 10 हेमलता त्यागी की कोर्ट ने जनपद शामली के थाना थाना भवन क्षेत्र की मस्त गढ़ पुलिया पर दो सिपाहियों की हत्या कर सरकारी रायफल लूटने के मामले में सुनवाई करते हुए एक आरोपी नीटू को दोषी मानते हुए 12 लोगों को सबूत के अभाव में बा इज्जत भारी कर दिया गया है जबकि इस मामले में चार लोगों की सुनवाई के दौरान मौत हो चुकी है सबसे खास बात यह है कि इस मामले में दिल्ली पुलिस के एक दरोगा संजय को भी नामजद किया गया था क्योंकि दरोगा संजय कुख्यात अपराधी सुमित कैल के मामा का लड़का था मगर विभागीय जांच में भी दरोगा को क्लीन चिट मिल गई थी

दरअसल मामला जनपद शामली के थाना भवन इलाके का था जहां 12 अक्टूबर 2011 को शाम 7:00 बजे मस्त गढ़ पुलिया पर तैनात दो पुलिसकर्मियों कृष्ण पाल व अमित कुमार की गोली मारकर हत्या की गई थी और उनसे सरकारी रायफल लूट ली गई थी इस मामले में 17 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था मामले की सुनवाई ए डी जे 10 श्रीमती हेमलता त्यागी की कोर्ट में चल रही थी इस मामले में चार आरोपियों ऋषि पाल, संजीव, धर्मेंद्र और सुमित कैल की मौत हो चुकी है। आरोपियों की ओर से वकील वकार अहमद ने बताया कि मामला अक्टूबर 2011 की शाम 7:00 बजे का है। जनपद शामली के थाना भवन क्षेत्र में मस्त गढ़ पुलिया पर दो सिपाहियों कृष्ण पाल और अमित कुमार की हत्या कर 2 सरकारी रायफल लूटी गई थी इस मामले में कोर्ट में सुनवाई करते हुए नीटू को दोषी माना है और 12 आरोपियों को सबूत अभाव में बरी कर दिया है। सजा की तिथि 29 सितंबर रखी है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *