70 मुसलमानों ने सनातन धर्म में की वापसी, फरमीदा बनी सीमा , गुलशाना बनी रुक्मेश, फरजीन से गीता, जरीना अब बनी जग्गो , शेरखान को अर्जुन, सलमान को लखन,  समीर अब करण बन गए हैं। सरजू से सूरज, लविस को लवकुमार हुआ नाम 

70 मुसलमानों ने सनातन धर्म में की वापसी

फरमीदा बनी सीमा , गुलशाना बनी रुक्मेश, फरजीन से गीता, जरीना अब बनी जग्गो , शेरखान को अर्जुन, सलमान को लखन,  समीर अब करण बन गए हैं। सरजू से सूरज, लविस को लवकुमार हुआ नाम

उत्तर प्रदेश के जनपद मुजफ्फरनगर में 70 मुसलमानों ने सनातन धर्म में वापसी की है दरअसल योग साधना यशवीर आश्रम के महंत स्वामी यशवीर महाराज 2 साल से ऐसे लोगों और परिवारों को सनातन धर्म में वापसी कर रहे हैं जिनके पूर्वज हिंदू रहे हैं और वह किसी कारण से इस्लाम धर्म कबूल कर चुके थे जिसके चलते आश्रम में मंत्र उच्चारण हवन पूजन के साथ गंगाजल का आचमन कर कर सभी को सनातन धर्म में वापसी कराई जा रही है योग साधना यशवीर आश्रम बघरा के आचार्य मृगेंद्र ने बताया कि कुछ परिवार आज उनके आश्रम में आए थे जिन्होंने उन्हें बताया था कि वह सनातन धर्म में वापसी करना चाहते हैं जिसके चलते उन्होंने हवन की व्यवस्था करते हुए सभी लोगों को आज हमन पूजन मंत्र उच्चारण और गंगाजल के आचमन के साथ हवन में आहुति देकर सनातन धर्म में वापसी कराई है यह लोग मुजफ्फरनगर के रहने वाले हैं जिनकी संख्या 70 है। इन्होंने बताया था कि 10 साल पहले किसी दबाव या डर की वजह से इन लोगों ने इस्लाम धर्म ग्रहण कर लिया था और अब यह चाहते हैं कि इनका मूल धर्म हिंदू है तो इसलिए यह सनातन धर्म में वापसी कर रहे हैं उन्होंने कहा कि इस देश के सभी मुसलमानों के पूर्वज हिंदू थे वह सभी से कहना चाहते हैं कि अब समय है अपनी गलती सुधारने का और सनातन धर्म में वापसी करने का इस दौरान जिन लोगों ने सनातन धर्म में वापसी की है उनका कहना है कि वह कि नहीं कारण से मुसलमान बन गए थे और उन्हें लगा कि सनातन धर्म ही सबसे अच्छा धर्म है तो उन्होंने आज आश्रम में पहुंचकर सनातन धर्म में वापसी की है इस दौरान
फरमीदा को अब सीमा के नाम से जाना जाएगा गुलशाना को रुक्मेश, फरजीन को गीता, जरीना को जग्गो , शेरखान को अर्जुन, सलमान को लखन के नाम से जाना जाएगा ऐसे ही समीर अब कारण बन गए हैं। सरजू से सूरज, लविस को लवकुमार के नाम से जाना जाएगा इसके साथ ही सनातन धर्म में वापसी करने वाले सभी 70 लोगों के नाम सनातनी रख दिए गए हैं

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *