प्रदूषण फैला रही पेपर मिल पर जिला प्रशासन और प्रदूषण विभाग की बड़ी कार्यवाही

प्रदूषण फैला रही पेपर मिल पर जिला प्रशासन और प्रदूषण विभाग की बड़ी कार्यवाही

पेपर मिल में जिला प्रशासन को ईंधन के रूप में जलती मिली मिली प्लास्टिक

पेपर मिल की मशीन को जिला प्रशासन ने किया शील

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) के अंतर्गत जनपद मुजफ्फरनगर में जिला प्रशासन और प्रदूषण विभाग ने बड़ी कार्यवाही करते हुए प्रदूषण फैला रही एक पेपर मिल की मशीन को सील कर दिया है इस पेपर मिल की पहले भी जिला प्रशासन को शिकायत मिलती रही है आज मिली शिकायत पर जब जिला प्रशासन और प्रदूषण विभाग की टीम मौके पर पहुंची तो प्रशासन की टीम को पेपर मिल में प्रतिबंधित प्लास्टिक जलती मिली । मौके पर पहुंचे उप जिलाधिकारी सदर परमानंद झा और जिला प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के अधिकारी ने पेपर मिल पर कार्यवाही करते हुए। पेपर मिल की मशीन को सील कर दिया। बताया जा रहा है कि इस पेपर मिल पर पहले भी 8 लांख 20 हज़ार का जुर्माना लगाया जा चुका है ।

दरअसल जनपद मुजफ्फरनगर के थाना नई मंडी कोतवाली क्षेत्र के गांव तिगरी स्थित श्री वीर बालाजी पेपर मिल पर प्रतिबंधित प्लास्टिक जलाकर प्रदूषण फैलाने की शिकायत जिला प्रशासन को मिली जिसमें जिला अधिकारी चंद्र भूषण सिंह ने उप जिलाधिकारी सदर परमानंद झा और प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड मुजफ्फरनगर के अधिकारियों की एक टीम गठित कर मौके पर भेजा जहां अधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर छापेमारी की तो पुलिस प्रशासन की टीम को मौके पर पेपर मिल में प्लास्टिक जलती पाई गई जिसके बाद उप जिलाधिकारी सदर के नेतृत्व में पहुंची टीम ने पेपर मिल की मशीनों को सील कर दिया और पेपर मिल के मालिक को चेतावनी दी कि जिला प्रशासन की बगैर अनुमति के यह पेपर मिल अब नहीं चलेगी उप जिलाधिकारी सदर परमानंद झा ने बताया कि सोशल मीडिया पर एक घंटा पहले लोकेशन सहित भेजा गया था कि श्री बालाजी पेपर मिल जो तिगरी में है वहा पर प्लास्टिक प्रयोग किया जा रहा है। अपर जिलाधिकारी प्रशासन नरेंद्र सिंह बहादुर के निर्देशन में यह कार्यवाही की है। एसडीएम सदर ने बताया कि हमनें कन्वेयर बेल्ट को सील कर दिया है जिसकी वजह से यह औद्योगिक इकाई चलेगी नहीं। और इसकी रिपोर्ट तत्काल जिलाधिकारी के संज्ञान में लाई जाएगी।

पेपर मिल पर पहले भी लगाया जा चुका है भारी जुर्माना

श्री वीर बालाजी पेपर मिल पर इससे पूर्व में भी 8.20 लाख का भारी जुर्माना लगाया जा चूका है। उन्होंने कहा कि प्रशासन इस तरह के प्रतिबंधित कार्यों के लिए हमेशा सतर्क है लेकिन कुछ उद्योगपति प्रतिबंधित प्लास्टिक कचरे का इंधन के रूप में प्रयोग कर रहे हैं जो कि वर्जित है। एसडीएम सदर परमानंद झा ने कहा कि मुजफ्फरनगर एनसीआर क्षेत्र में आने की वजह से प्रदूषण कंट्रोल के कई नियम यहां पर भी लागू होते हैं।

उप जिलाधिकारी सदर परमानंद झा की फैक्ट्री मालिकों से अपील

यह प्रदूषण बहुत बड़ा ज़हर है। कृपया स्वच्छ इंधन का प्रयोग करें। ताकि क्षेत्र की जनता इस त्रासदी से मुक्ति पा सके।

दीपावली पर पेपर मिल की मशीन सील होने के चलते सैकड़ों परिवारों की दीपावली मनेगी अंधेरे में 

कहा कि यह तो सत्य है कि जब फैक्ट्री सील हो गई है तो फैक्ट्री में काम कर रही लेवर चली जाएगी उन्होंने कहा कि यह प्रशासनिक हिस्सा है। यह फैक्ट्री जहर उगल रही थी। इसमें हम रियायत नहीं दे सकते यह कार्यवाही ज्यादा महत्वपूर्ण है ना कि वो, उन्होंने कहा कि यहां के मजदूरों को हम कहीं और शिफ्ट कर देंगे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *