पालिकाध्यक्ष मीनाक्षी स्वरूप ने बनाया शहर को स्वच्छ बनाने का प्लान

पालिकाध्यक्ष मीनाक्षी स्वरूप ने बनाया शहर को स्वच्छ बनाने का प्लान

ईओ-स्वास्थ्य विभाग के साथ समीक्षा बैठक में दिये निर्देश, कूड़ा वाहन प्रकरण में कार्यवाही न होने पर जताई कड़ी नाराजगी, हर दिन 11 वार्डों के साथ पालिकाध्यक्ष करेंगी वार्डवार समीक्षा

मुजफ्फरनगर। शहरी क्षेत्र में साफ सफाई व्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए नगरपालिका परिषद् की अध्यक्ष श्रीमति मीनाक्षी स्वरूप ने सख्त तेवर अपना लिये हैं। शहर को स्वच्छ बनाने के लिए जहां पालिका के विभागीय अफसरों को कामकाज के प्रति संवेदनशील बनाने का बीडा उठाया गया है तो वहीं इसके प्रति पालिका अब शहर के लोगों को भी अपने नागरिक दायत्विों के प्रति जागरूक करने जा रही है। पालिकाध्यक्ष श्रीमति मीनाक्षी स्वरूप ने नई पहल करते हुए वार्डवार समीक्षा मीटिंग शुरू करने के साथ ही स्कूल और काॅलेजों में भी स्वच्छता के प्रति जनजागरण करने का अभियान चलाने के निर्देश अधिशासी अधिकारी को दिये हैं। वहीं पालिका में स्वच्छ भारत मिशन और 15वें वित्त आयोग के तहत प्राप्त धनराशि से होने वाले कार्यों और वाहन आदि खरीद के प्रकरणों का निस्तारण नहीं होने और कूड़ा वाहन प्रकरण में ठेकेदार के खिलाफ अभी तक भी कार्यवाही नहीं होने पर कड़ी नाराजगी व्यक्त करते हुए अधिशासी अधिकारी और नगर स्वास्थ्य अधिकारी से जवाब तलब किया है।
नगरीय क्षेत्र में साफ सफाई के अभाव और लगातार जनता से मिल रही शिकायतों के साथ ही कूड़ा निस्तारण के लिए सोलिड वेस्ट मैनेजमेंट का बंद प्लांट भी चालू कराने के लिए पालिकाध्यक्ष श्रीमति मीनाक्षी स्वरूप सक्रिय हो गई हैं। इसके साथ ही शहर को स्वच्छ बनाने के लिए लोगों को जागरुक करते हुए जनसहभागिता के साथ काम करने की पहल की जा रही है। इसी कड़ी में पालिका अध्यक्ष द्वारा अपने आवास पर समीक्षा बैठक बुलाई गई, जिसमें शहरी सफाई व्यवस्था को सुचारू बनाते हुए नियमित साफ सफाई सुनिश्चित किये जाने के प्रमुख बिन्दू पर चर्चा करते हुए कुछ अहम फैसले लिये गये। साथ ही स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को कार्य के प्रति जवाबदेह बनने और कार्यप्रणाली में सुधार की चेतावनी भी दी गयी है।
समीक्षा बैठक में स्वच्छ भारत मिशन और 15वें वित्त आयोग से पालिका को प्राप्त धनराशि से प्रस्तावित कार्यों और वाहन एवं अन्य सामग्री की खरीद के प्रकरण कई महीनों से लम्बित रहने की जानकारी मिलने पर पालिकाध्यक्ष श्रीमति मीनाक्षी स्वरूप ने अधिशासी अधिकारी हेमराज सिंह को निर्देश दिये कि इन लम्बित प्रकरणों का जल्द से जल्द निस्तारण कराया जाये। इसमें खरीद आदि के जल्द टैण्डर कराये जाये ताकि इसका लाभ जनहित में उठाया जा सके। इसके साथ ही डोर टू डोर कूड़ा कलेक्शन व्यवस्था को सभी 55 वार्डों में प्रभावी स्तर पर प्रारम्भ कराने और इसके लिए जल्द ही टैण्डर आमंत्रित करने के निर्देश भी दिये गये। इसके लिए अधिशासी अधिकारी से पूरा प्लान मांगा गया है। पालिकाध्यक्ष श्रीमति मीनाक्षी स्वरूप को नगर स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. अतुल कुमार के द्वारा बताया गया कि साफ सफाई के लिए लगातार प्रयास किये जा रहे हैं, लेकिन शहर के बाजारों में दुकान खुलने से पूर्व सफाई की जाती है और इसके बाद जब दुकानदार अपने प्रतिष्ठानों पर पहुंचते हैं तो वो साफ सफाई कर कूड़ा करकट फिर सड़कों पर डाल देते हैं, जिससे शहर गंदा नजर आता है। पालिकाध्यक्ष ने निर्देश दिये कि व्यापारियों के साथ पालिका अफसर और पालिका की टीम बनाकर समन्वय स्थापित किया जाये, उनको कूड़ा निस्तारण के लिए दुकानों पर डस्टबिन रखने के लिए समझाया जाये। इसके साथ ही उन्होंने टीम बनाकर कूड़ा निस्तारण के लिए और शहर को स्वच्छ बनाने में जनजागरुकता अभियान चलाने के निर्देश देते हुए कहा कि पालिका की टीमों के द्वारा शहरी क्षेत्र के स्कूल काॅलेजों में जागरुकता कार्यक्रम किये जायें। इसमें सभासदों के साथ ही शहर के जिम्मेदारी संगठनों और लोगों की प्रतिभागिता सुनिश्चित की जाये। पालिकाध्यक्ष ने नगर स्वास्थ्य अधिकारी से शहरी वार्डों में खाली पड़े प्लाट/स्थान जिन पर कूड़ा करकट एकत्र किया जा रहा है के सम्बंध में भी रिपोर्ट मांगी है, ताकि ऐसे लोगों को समझाकर गंदगी खत्म कराई जा सके, साथ ही प्लाट मालिकों पर इसके लिए कार्यवाही करने के निर्देश भी दिये गये।
पालिकाध्यक्ष ने समस्याओं के निस्तारण और सुनवाई के लिए भी बड़ी पहल करते हुए वार्डवार समीक्षा शुरू करने के निर्देश दिये हैं। इसमें प्रतिदिन 11-11 वार्डों के सभासदों, सफाई नायकों और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ पालिका अध्यक्ष स्वयं समीक्षा करते हुए समस्याओं को सुनेंगी और उनके निस्तारण की व्यवस्था बनाई जायेगी। साथ ही सभासदों को भी सीधे सफाई अभियान से जोड़ा जायेगा। पालिकाध्यक्ष श्रीमति मीनाक्षी स्वरूप ने कूड़ा निस्तारण के लिए किदवईनगर स्थित पालिका के सोलिड वेस्ट मैनेजमेंट प्लांट के बंद होने पर भी अधिशासी अधिकारी से रिपोर्ट मांगी और प्लांट को पुनः शुरू कराने के लिए दिशा निर्देश दिये हैं। उन्होंने कूड़ा वाहन प्रकरण में ठेकेदार के खिलाफ कार्यवाही नहीं किये जाने को लेकर अधिशासी अधिकारी और नगर स्वास्थ्य अधिकारी के प्रति कड़ी नाराजगी जताते हुए जल्द से जल्द सभी दस वाहन पालिका में जमा कराये जाने और जमानत जब्त/ब्लैक लिस्ट की कार्यवाही कर उनको सूचित करने के निर्देश दिये हैं।
पालिकाध्यक्ष श्रीमति मीनाक्षी स्वरूप की समीक्षा बैठक में अधिशासी अधिकारी हेमराज सिंह, नगर स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. अतुल कुमार, मुख्य सफाई एवं खाद्य निरीक्षक योगेश कुमार, सफाई एवं खाद्य निरीक्षक प्लाक्षा मैनवाल, कार्यालय अधीक्षक ओमवीर सिंह, स्टोर कीपर अशोक ढींगरा, एसबीएम लिपिक आकाशदीप मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *