बाढ़ ग्रस्त इलाकों में कपड़े उतार कर पानी में उतरे केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान

बाढ़ ग्रस्त इलाकों में कपड़े उतार कर पानी में उतरे केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान


मुजफ्फरनगर पहाड़ों पर हो रही भारी बरसात के बाद मैदानी इलाकों में गंगा, जमुना, हिंडन और काली नदी उफान पर है। जिससे मुजफ्फरनगर जनपद के कई इलाके बाढ़ की चपेट में आ गए हैं। केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान का लोकसभा क्षेत्र पूरी तरह से बाढ़ की चपेट में है। खेत हो या खलियान ग्रामीण इलाका हो या शहरी क्षेत्र सभी पानी से लबालब है । हालात इस कदर बदतर हो गए हैं कि केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान को अपने लोकसभा क्षेत्र में कपड़े उतार कर 6 फुट पानी में उतरना पड़ा। केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान के साथ जिला प्रशासन की टीम जनपद के सभी बाढ़ ग्रस्त क्षेत्रों का दौरा कर रहे हैं ऐसे में बाढ़ क्षेत्र इलाकों में केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान खुद पानी में उतर कर बाढ़ ग्रस्त इलाकों का दौरा कर रहे हैं।

केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान के लोकसभा क्षेत्र जनपद मुजफ्फरनगर की जहा केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान ने खुद बाढ़ के पानी में उतरकर नुकसान का आंकलन कर रहे है बता दें कि जनपद के खादर क्षेत्रों में करीब 30 गांव के लोगों की जिंदगी प्रभावित है। ऐसे में मंत्री संजीव बालियान ने रविवार को खुद बाढ़ ग्रस्त क्षेत्र में पहुंचकर नुकसान का आंकलन किया। मुजफ्फरनगर के चरथावल थाना क्षेत्र के ग्राम कसौली में बाढ़ ग्रस्त क्षेत्र का दौरा करते हुए केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान ने कपड़े उतार खेत में पानी के बीच पहुंचकर किसानों के नुकसान का किया आंकलन। सोलानी नदी के खादर क्षेत्र में करीब 30 गांव के लोगों की जिंदगी प्रभावित है। मकानों की छतों पर डेरा जमाए लोग पानी उतरने का इंतजार कर रहे हैं। फसलें खराब हो गई है। हालात नहीं सुधरे तो बीमारियां फैलने का खतरा बढ़ सकता है। एडीएम वित्त एवं राजस्व के साथ प्रशासन की टीम ने राहत सामग्री वितरित की। संजीव बालियान दूधली और बुड्ढाखेड़ा गांव का दौरा करने के बाद कसौली नदी के रास्ते पहुंचे। सडक टूटी थी। कई फिट पानी चल रहा था। लेकिन मंत्री ने आधा रास्ता ट्रेक्टर से और बाकी नदी के पानी से होकर पार किया। नदी के पानी कसौली मार्ग पर कई फिट तक भरा था। लेकिन उन्होंने पानी में कपड़े निकलकर पार किया। मौके पर ग्रामीणों की समस्याओं को समझा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *