नगर पालिका परिषद की चेयरमैन अंजू अग्रवाल ने की अपने ऊपर लगाए गए आरोपो की उच्च स्तरीय जांच की मांग

नगर पालिका परिषद की चेयरमैन अंजू अग्रवाल ने की अपने ऊपर लगाए गए आरोपो की उच्च स्तरीय जांच की मांग

जनपद मुजफ्फरनगर में नगर पालिका परिषद की चेयरमैन अंजू अग्रवाल ने अपने मीका विहार स्थित अपने आवास पर मीडिया से वार्ता करते हुए अपने ऊपर लगाए गए सभी आरोपों को निराधार कहा और उन्होंने इस मामले को अपने खिलाफ एक सोचा समझा षड्यंत्र करार दिया उन्होंने कहा कि उन पर जो भी आरोप लगाए गए हैं वह झूठे हैं उन्होंने किसी भी तरह का नगर पालिका में कोई भी गबन नहीं किया गया है वहीं उन्होंने कहा कि यह केवल कुछ नेताओं के इशारों पर उन्हें बदनाम करने का कार्य किया जा रहा है क्योंकि लगातार वह क्षेत्र में विकास कर रही है गौरतलब है कि गत दिनों नगर पालिका परिषद की चेयरमैन अंजू अग्रवाल को शासन के द्वारा भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए बर्खास्त कर दिया गया था जिस पर उनके द्वारा मीडिया से वार्ता करते हुए कहा कि उन पर जो भी आरोप लगाए गए वह सभी आरोप निराधार हैं कुछ नगरपालिका के बाबू एवं अधिकारियों के द्वारा भ्रष्टाचार किया गया है और कुछ सभासद भी इसमें लिप्त है जिसको लेकर उन लोगों को बचाते हुए उन्हें फंसाया गया है नगर पालिका परिषद की चेयरमैन अंजू अग्रवाल ने कहा कि वह मांग करती है कि इस पूरे प्रकरण की एसआईटी से उच्च स्तरीय जांच हो और उन लोगों पर भी कार्रवाई हो जो भ्रष्टाचार में लिप्त है उन्होंने कहा कि उन पर जो भ्रष्टाचार के आरोप लगे हैं वह निराधार है पहले केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान की शिकायत पर उनकी जांच हो चुकी है मगर उसमें भी वह दोषी नहीं पाई गई थी जिसके बाद कमिश्नर द्वारा पूरे प्रकरण की जांच की गई थी उसमें भी टी पर खरीद में कोई घोटाला नहीं पाया गया था मगर कमिश्नर की जांच होने के बाद आज यह लोग राजनीतिक षड्यंत्र रच कर नगरपालिका के अधिशासी अधिकारी से जांच करा रहे हैं जबकि कमिश्नर की जांच हो जाने के बाद अधिशासी अधिकारी से जांच कराना कोई मतलब नहीं बैठता उन्होंने बिना नाम लिए उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्री कपिल देव अग्रवाल और नगरपालिका के चर्चित सभासदों को आरोपित किया है कि उनके खिलाफ यह लोग षड्यंत्र रच रहे हैं अपने साथ हो रहे अन्याय के खिलाफ वह फिर अदालत का सहारा लेंगी। उन्होंने कहा कि मुझ पर 5 हजार रुपये के घोटाले का आरोप है जबकि मैंने नगरपालिका की बेशकीमती जमीन को कब्जा मुक्त कराया और घाटे में चल रही नगर पालिका को मुनाफे की ओर बढ़ाया मगर जो लोग सरकारी जमीन पर कब्जा कर रहे हैं वही लोग उनके खिलाफ षड्यंत्र रच रहे हैं उनके खिलाफ जो 4 आरोप लगे थे जांच में वह निराधार पाए गए थे अब उन्हीं आरोपों के चलते उनकी प्रशासनिक और वित्तीय अधिकार सीज कर दिए गए थे जिसके खिलाफ अब वह हाईकोर्ट में जाएंगे

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *