प्रधानों ने काऊ सेंचुरी के लिए पैसा देने से किया इंकार

प्रधानों ने काऊ सेंचुरी के लिए पैसा देने से किया इंकार

प्रधानों ने जिलाधिकारी से मिलकर की ग्राम पंचायत निधि से 4 प्रतिशत धनराशि ना काटने की मांग

जनपद मुजफ्फरनगर में बन रही काऊ सेंचुरी में सहायता करने से ग्राम प्रधानों ने इंकार कर दिया है ग्राम प्रधानों ने शुक्रवार को जिलाधिकारी चंद्र भूषण सिंह से मुलाकात की और एक ज्ञापन जिलाधिकारी को सौंपकर मांग की है कि मुजफ्फरनगर में बन रही काऊ सेंचुरी में प्रधानों की निधि से 4% धनराशि काटने का आदेश जारी हुआ था जिसको लेकर ग्राम प्रधानों ने कहा कि उनकी निधि से 30% धनराशि पहले ही कट चुकी है और 4% धनराशि काऊ सेंचुरी में जाने के बाद उनके पास कुछ नहीं बचेगा उन्होंने कहा कि पहले से ही कम्युनिटी शौचालय और एक सहायक का मानदेय प्रधान निधि से दिया जा रहा है उन्होंने कहा कि कम्युनिटी शौचालय और सहायक का मानदेय सरकार खुद वहन करें
इस दौरान मुख्य रूप से अखिल भारतीय उत्तर प्रदेश प्रधान संगठन के पश्चिम प्रदेश अध्यक्ष सतेन्द्र बालियान, प्रदेश उपाध्यक्ष कुलदीप चौधरी, सहारनपुर मंडल अध्यक्ष अशोक राठी, ओमवीर सिंह ब्लॉक अध्यक्ष खतौली, अजय चौधरी ब्लॉक अध्यक्ष जानसठ, जगमोहन सिंह, मनीष प्रधान सिमरथी, राहुल देव प्रधान जन्धेडी, जानसठ ब्लाक अध्यक्ष अनूप सिंह सिखेडा, राजीव धनगर खानूपुर, दीपक चौधरी ताजपुर, इसरार प्रधान टिटौडा सहित अन्य ग्राम प्रधान भी शामिल रहे।
गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश में आवारा पशुओं की बढ़ती संख्या को देखकर जहां एक और आम नागरिक से लेकर किसान तक परेशान है जिसको लेकर केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान के प्रयास से मुजफ्फरनगर के पुरकाजी खादर क्षेत्र के गांव चंदन में काऊ सेंचुरी बनाने को लेकर सर्वे कराया था जिसमें इस काऊ सेंचुरी को लगभग 6 महीने में तैयार कर उसमें आवारा पशुओं को रखने के लिए उस पर होने वाले खर्च को लेकर उत्तर प्रदेश और केंद्र सरकार के साथ-साथ पंचायत निधि से 4% धनराशि काटने के निर्देश दिए गए थे जिसको लेकर ग्राम प्रधान संगठन की ओर से काऊ सेंचुरी को ग्राम प्रधान निधि से ना काटने की मांग की है

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *