आर्मी इंटेलिजेंस ने आर्मी के नाम पर धोखाधड़ी करने वाले गिरोह का किया पर्दाफाश

आर्मी इंटेलिजेंस ने आर्मी के नाम पर धोखाधड़ी करने वाले गिरोह का किया पर्दाफाश

आर्मी इंटेलिजेंस और थाना दौराला पुलिस के संयुक्त अभियान में दोनों ठगी करने वाले आरोपी गिरफ्तार

आरोपी दोनों युवक युवकों को आर्मी भर्ती के नाम पर गुमराह कर ठगते थे लाखों रुपए

आर्मी की वर्दी पहन डुप्लीकेट आर्मी अधिकारी का रोल निभाते थे आरोपी

जानकारी के अनुसार मनोज कुमार पुत्र मामचन्द्र निवासी गांव सुराना थाना मुरादनगर जिला गाजियाबाद ने दौराला थाने में तहरीर देते हुए शिकायत दर्ज कराई थी की वह आर्मी की तैयारी कर रहा था साल 2019 में वह भर्ती देखने के लिए फैजाबाद गया था । वंहा उसकी मुलाकात राहुल पुत्र रणधीर निवासी गांव ककराला थाना खतौली जिला मुजफ्फरनगर हाल पता कृष्णापुरी कालोनी सीएचसी के पीछे कस्बा व थाना दौराला जिला मेरठ से हुई थी। जो खुद बभी इस भर्ती में शामिल हुआ था और वह भर्ती हो गया था भर्ती होनो के बाद सन 2020 में राहुल ने उसे फोन किया और बताया कि मैं तूझे भी आर्मी भर्ती करा दूंगा मुझे 8 लाख रूपये दे दो तो मनोज ने इसके लिए तैयार हो गया जिसके बाद आरोपी राहुल ने मनोज के पास एक ज्वाइनिंग लेटर (नियुक्ति पत्र) जिसकी छाया प्रति संलग्न कर डाक के माध्यम से उसे भेज दिया। जिसके बाद मनोज ने अपने भाई भीम सैन पुत्र चरन सिंह निवासी ग्राम सुराना थाना मुरादनगर गाजियाबाद की भर्ती के लिए राहुल से बोला तो राहुल ने भीम सैन का भी नियुक्ति लेटर डाक के माध्यम से भेज दिया। लेटर आने के बाद मनोज ने अपने व अपने भाई भीमसेन की भर्ती के लिए लगभग 16 लाख रूपये राहुल को दिये जिसमें मनोज ने राहुल को 6 लाख रूपये खाते मे और 10 लाख रूपये नगद राहुल को दिये नगद रूपये उसने दौराला जाकर दिए थे जिसके बाद मनोज ने अपनी लिखित तहरीर में बताया कि राहुल ने मुझे ट्रेनिंग के पहले पठानकोट 272 ट्रान्जिट कैम्प (टैन्क चौक) में बुलाया और मुझे एक होटल मेरोकर में मेरा मूल नियुक्ति लेटर ले लिया फिर अलग अलग कारण बताकर मुझे एक किराये के मकान मे पठान कोट में ही रुकवा दिया। फिर यंहा से मुझे राहुल पर सक हुआ तो मैने राहुल को घर वापस जाने के लिए कहा तो राहुल ने मेरी वीडियो काल पर विट्ट से बात करायी जिसने आर्मी अधिकारी की बर्दी पहनी हुई थी विट्ट अधिकारी ने कहा की लाकडाउन लगा है अभी पठान कोट मे ही रहो करीब 01 माह बाद मुझे राहुल ने अखनूर (जम्मू कश्मीर ) मे बस स्टेण्ड पर एक होटल में रूकवाया लगभग एक माह तक होटल मे रहने के बाद मैने राहुल से डियूटी के बारे मे जानकारी पर जोर दिया वो किसी अधिकारी से बात होने की बात कहकर मुझे पठान कोट फिर से बुला लिया राहुल की डियूटी पठान कोट में ही था। पठान कोट में पहुंचने के बाद राहुल ने मुझे कहा की अपना पुलिस वैरिफिकेशन करा ले तुम भर्ती हो गये हो मै पुलिस वैरिफिकेशन कराकर फिर राहुल को बताया और राहुल के बताये अनुसार पठान कोट पहुचा तो राहुल मुझे गेट पर मिला और कहा कि साहब आ रहे है और एक आर्मी अधिकारी आये और मुझे अन्दर कैम्प मे ले गये मुझे कैम्प के अन्दर खाना बनाया फटिक करावाई फिर शाम को राहुल कुछ समय के लिए मेरे पास आया तो कहा की साहब ने तेरी डियूटी मेरे साथ पोस्ट पर लगी है फिर मैने राहुल के साथ इन्सास रायफल के साथ पोस्ट पर डियूटी की फिर मैने एक सिपाही को अपना लेटर दिखाया और भर्ती के बारे में जानकारी की तो उसने मुझे बताया कि तेरे साथ फर्जीवाडा हुआ है तो कहा कि यहा से निकल जा मैने राहुल से पूछा तो राहुल ने मुझे कैम्प से निकालकर कानपुर जैड़ी फिजिकल एकेडमी में आर्मी की नौकरी में लगवाया वहां पर राजा नाम का आदमी ही मुझे आर्मी में बताकर फिजिकल कराता था फिर मुझे घर भेज दिया मैने घर आकर घर पर सारी जानकारी दी तो राहुल से घर वालो ने बात की राहुल ने मेरे पापा के खाते में कुछ रूपये डाल दिये। पीड़ित मनोज ने अपनी तहरीर में बताया कि राहुल ने अपने दोस्त विट्ट के साथ मिलकर मुझे फर्जी नियुक्ति पत्र और फर्जी पहचान पत्र दिया और आर्मी कैम्प में लेजकर पडयंत्र करके फर्जी वर्दी धारण कराके धोका किया है मनोज का आरोप है कि जब उसने इन लोगो से अपना पैसा मांगा तो इन लोगो उसके साथ मार पीट की और जान से मारने की धमकी दी जिसके बाद पुलिस ने कार्यवाही करते हुए दोनों आरोपियों को धर दबोचा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *